Film sensor board/गली बॉय पर भी चली सेंसर बोर्ड की कैंची!सेंसर बोर्ड का सख्त रवैया क्या सही है ठीक ये/Viral Post

अक्सर विवादों में रहने वाले सेंसर बोर्ड को फिरसे एक बार आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है!19 फरवरी को रिलीज़ हो रही फिल्म गली बॉय के एक इंटिमेट सीन पर कैची चलाने के मामले में!इस सीन में रणवीर सिंह और आलिया भट्ट के कुछ अहम किरदार थे!सबाल ये उठता है,क्या सेंसर बोर्ड जरूरत से ज्यादा सख्त हो रही है!कभी सेंसर बोर्ड पर भ्र्ष्टचार का आरोप लगता है,तो कभी पक्षपात का!पर इन सब के बाबजूद सेंसर बोर्ड बखूबी अपना किरदार निभा रहा है!
Bollywood film
This image use from

Bollybood
This image use from

पर क्या सिर्फ सेंसर बोर्ड पर इल्जाम लगाना जायज़ है!दोस्तों ज़रा गौर करिये आखिर सेंसर बोर्ड की जरूरत क्या है,हमारे समाज में!आखिर सेंसर बोर्ड की स्थापना क्यों की गई थी!दोस्तों हम जिस समाज में रहते है,उसकी हिफाजत करना हमारा कर्तव्य है!अतः फिल्म एक मनोरंजन का साधन है,नाकि असलीलता का रंगमंच!दोस्तों फिल्मो का हमारे वास्तविक जीवन और समाज पर गहरा असर पड़ता है!आपने अक्सर देखा होगा,फिल्मो में चलने वाले फैशन युवाओ को बेहद आकर्षित करता है!फिल्म मनोरंजन का एक ऐसा साधन है,जिसका आनंद सिर्फ व्यस्क लोग ही नहीं बल्कि युवा वर्ग और नाबालिक बर्ग के लोग भी लेते  
है!आज कल मार्केटिंग का जमाना है! ऐसे में अगर सेंसर बोर्ड न हो या इन पर नजर न रखा जाये तो ये लोग कुछ भी बना कर समाज का माहौल खराब करेंगे!


परन्तु कई मामले में सेंसर बोर्ड का जरूरत से अधिक सख्त नजर आना खटकता है,आजकल के खुले विचार वाले वाले लोगो को!निर्माता जब इस तरह की फिल्मे बनाता है,तो पहले ही घोसित कर देता है,के ये एक एडल्ट फिल्म है!इसे देखने के लिए खास आयु की आवश्यकता  अनिवार्य होती है!ऐसे में सेंसर बोर्ड द्वारा प्रतिबंध लगाना ठीक नहीं है!बदलते बक्त के साथ सेंसर बोर्ड को अपने नियम में परिवर्तन करने की जरूरत है!समाज के बदलते हुए जरूरत के मध्य नजर सेंसर बोर्ड के नियम में नए बदलाव की जरूरत है!ऐसे फिल्मे जो अडल्टता के अंतर्गत आती है,उन पर कैची चलाने के वजाय कुछ नए विकल्प लाने चाहिए!अक्सर ये देखा गया जिस सीन पर कैंची चलती है,सेंसर बोर्ड की,वो सिन लोकप्रिय हो जाता है!सोशल मिडिया पर वायरल होता है!इससे पता चलता है आप समाज को रोक रही सकते,उस तक पहुंचने से!इसलिए बदलते बक्त के साथ कुछ हद तक सेंसर बोर्ड को नए नियम के साथ खुले पन को आजादी देनी चाहिए!क्यूंकि जिस चीज से हम जितना रोकते है,वो चीज उतना ही आग की तरह फैलती है!परन्तु सबकुछ के साथ नैतिकता का भी ख्याल रखना जरूरी है!अगर आपको ये विचार अच्छे लगे हो तो हमे फॉलो करना ना भूले!
Reactions

Post a Comment

0 Comments