Hindi shayari on covid 19 by Sohrab Mirza

Hindi shayari on covid 19 by Sohrab Mirza


"Hindi shayari on covid 19" there is some very emotional shayari on covid 19 by Sohrab Mirza.hindi poetry on covid 19.

Covid 19 shayari



 


दे दे कहीं से राहत की ख़बर ऐ खुदा, तेरे इंसा परेशान बहुत बहुत है.
बहुत आस्था है हमें तुझ पर,तेरी ख़ामोशी को देख कर हम हैरान बहुत है.


Sohrab mirza
Covid 19 shayari


De de kahi se rahat ki khabar ai khuda tere insa preshan bahut bahut hai.
Bahut astha hai hme tujh pr,teri khamoshi ko dekh kar hm hairan bahut hai.

खुले सड़क पर हमने बिताई हैं कई रातें, झूठ कहता hai हर शख्स यहां माकन बहुत है.


Sohrab mirza


Khule sadak pr hmne bitai hai kai raate, jhoot kahta hai har shks yha makan bahut hai.

भूखे सोने वालो से पूछो ये मंजर,लोग तो कहते हैं खाने के लिए सामान बहुत है.

Sohrab mirza

Bhukhe sone walo se puchho ye manjar,log to kahte hai khane ke liye saman bahut hai.

आज खुद पिंजरों में कैद हुए तो पता चला,यूँ तो परिंदो को कैद करना आसान बहुत है.

Sohrab mirza

Aaj khud pinjro me kaid huye to pta chla,yu to parindo ko kaid krnra aasan bahut hai.

ना जाने ये कौन सी बला हैं जो हमे डरा रहीं है,ये शहर पहले से ज़्यादा सुनसान बहुत है.


Sohrab mirza

Naa jaane ye kon si bla hai jo hme dra rhi hai, ye shahar pahle se jyada sunsan bahut hai.

टूट गए चंद लम्हो में तेरी कहर से,सचमुच आपकी कुदरत में जान बहुत है.

Hindi shayari

Tut gye chand lmho me teri kahar se,schmuch apki kudrat me jan bahut hai.

जिसने जलाई थी जानबूझकर तेरी कुरान,शायद तुझे से अभी अंजान बहुत है.

Jisne jlai thi janbujhkar teri kuran,shayad tujh se anjan bahut hai.


जो नहीं समझ पा रहे है अभी तक तेरी नाराजगी का सबक,वो गफलत में खोया नादान बहुत है.

Hindi shayari

Jo nhi samajh pa rhe hai abhi tk teri narajgi ka sabak, wo gaflat me khoya nadan bahut hai.

मिले कोई राहत की खबर अब दुआओ से, तेरा पहले भी हम पर एहसान बहुत है.

Hindi shayari
Hindi shayari


Mile koi rahat ki khabar ab duao se, tera pahle bhi hm pr ahsan bahut hai.
Reactions

Post a Comment

0 Comments